ओपिनियनदेशन्यूज़बड़ी खबरब्लॉगस्पोर्ट्स

कोई नहीं बोलता कि भाई टीम में आजा: ऋषभ पंत

नॉएडा: भारतीय क्रिकेट टीम पिछले काफी समय से महेंद्र सिंह धोनी का विकल्प तलाशने में जुटी है। इस मुहिम में दिल्ली के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को सबसे मजबूत दावेदार माना जा रहा है। फरवरी 2017 में टी20I स अपने इंटरनैशनल करियर की शुरुआत करने वाले पंत को उनकी प्रतिभा देखकर जल्दी ही टेस्ट और वनडे टीम में भी मौका मिल गया। धोनी से उनकी तुलना पर जब पंत से सवाल किया गया तो उन्होंने यह सबसे मुश्किल चीज है। कोई भी एक ही रात में महेंद्र सिंह धोनी नहीं बन सकता।

पंत ने यह खास बातचीत हमारे सहयोगी ‘बॉम्बे टाइम्स’ से की। इस चर्चा में उन्होंने अपने खेल से जुड़ी हर बात पर खुलकर चर्चा की। धोनी से तुलना के सवाल पर इस 21 वर्षीय युवा खिलाड़ी ने कहा, ‘मैं धोनी से अपनी तुलना के बारे में नहीं सोचता। यह बहुत मुश्किल है। मैं उनसे लगातार सीख रहा हूं और धोनी की लीग में मैं एक ही रात में नहीं आ सकता।’ इस युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा कि मैं धोनी को अपने मेटॉर मानते हैं और धोनी ने उन्हें इस खेल से जुड़ी कई बारिकियों को समझाया है।

पंत ने बताया कि वह हमेशा धोनी से कुछ न कुछ सीखने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा कि वह अपना माइंडसेट धोनी की तरह बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वह बैटिंग करते हुए धोनी की तरह सोचना चाहते हैं। वह दबाव में भी शांत होकर बैटिंग करने के गुण सीख रहे हैं।

इस बातचीत में पंत ने कहा कि वह धोनी से तुलना पर यह नहीं सोचते कि वह उनकी ही तरह खेल पाएं। वह अपनी क्षमताओं का बेहतर इस्तेमाल कर टीम को जीत दिलाने के इरादे से बैटिंग करते हैं।

इस विकेटकीपर खिलाड़ी ने कहा, ’21 साल की उम्र में मैं अगर यह सोचकर खेलने लगा कि मुझे धोनी की जगह लेनी है तो यह मेरे लिए बहुत मुश्किल होगा। मैं बस चीजें सामान्य रखकर खेलना पसंद करता हूं।’ उन्होंने कहा, ‘जहां तक सीखने की बात है, तो वह सिर्फ धोनी ही नहीं टीम के दूसरे सीनियर खिलाड़ियों से भी सीखते हैं।’

सचिन बोले, इसरो ले जाएगा चांद से भी दूर

NBT

जब पंत से यह सवाल किया गया कि कई जानकार मानते हैं कि आपको थोड़ी जल्दी ही नैशनल टीम में जगह मिल गई और अगर कुछ समय बाद आपको मौका दिया जाता तो यह आपके लिए बेहतर होता। आप क्या मानते हैं कि इस बारे में आप भाग्यशाली रहे हैं?

इसके जवाब में युवा पंत ने कहा, ‘यह अच्छा है कि किसी खिलाड़ी को जल्दी मौका मिल जाए। लेकिन इसका यह अर्थ नहीं हैं कि मुझे कोई चीज मुफ्त में मिल गई है। मैंने कड़ी मेहनत करके भारतीय क्रिकेट टीम में यह जगह हासिल की है। किसी ने मुझे यह गिफ्ट में नहीं दिया है।’

(“द संडे हेडलाइंस” के यहां क्लिक कर सकते हैं आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं ) 

Tags
Show More
[whatsapp_share]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close