Breaking NewsTSH Specialअंतरराष्‍ट्रीयताजा खबरदेशन्यूज़बड़ी खबरराजनीतिराजनीतिक किस्से

महीने भर में पाकिस्तान की अकड़ ढीली

नॉएडा: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटने के बाद पाकिस्तान ने बौखलाहट में भारत से सारे व्यापारिक संबंध एक झटके में खत्म कर लिए. पाकिस्तान में भारतीय सामानों के बॉयकाट का अभियान चला. दोनों देशों के बीच चलने वाली ट्रेन सेवाएं बंद कर दी गईं. पाकिस्तान नफरत में यूं अंधा हो गया कि भारतीय फिल्मों को तो अपने यहां बैन ही कर दी. उन विज्ञापनों पर भी प्रतिबंध लगा दिया, जिसमें भारतीय कलाकार नजर आ रहे थे.

india vs pak

दरअसल अतंरराष्ट्रीय सीमा पर भारत की तैयारियों के सामने पस्त पाकिस्तान ट्रेड के मोर्चे पर भारत को नुकसान पहुंचाना चाहता था. लेकिन 30 दिन गुजरते-गुजरते पाकिस्तान को अपने फैसले का असर समझ में आने लगा. पाकिस्तान के इन प्रतिबंधों का कुछ खास असर भारत पर तो नहीं हुआ, लेकिन पाकिस्तान में त्राहिमाम की स्थिति पैदा हो गई.

बता दें कि पाकिस्तान की ड्रग इंडस्ट्री इस वक्त चौपट हाल में है. पाकिस्तान ने जब भारत से व्यापारिक रिश्ते खत्म किए, तो वहां के व्यापारियों को भारत से दवाएं मंगवाना बंद करने की मजबूरी थी. कुछ ही दिनों में पाकिस्तान के अस्पताल में जीवन रक्षक दवाओं की घोर किल्लत हो गई. दवाओं के अभाव में मरीज तड़पने लगे.

पाकिस्तान को अब अपनी गलती का एहसास हुआ. लाचार पाकिस्तान ने अब भारत से दवाएं मंगाने की अनुमति दे दी है. पाकिस्तानी न्यूज चैनल जिओ टीवी के मुताबिक संघीय सरकार ने सोमवार को भारत से जीवन रक्षक दवाओं के आयात को मंजूरी दे दी है, ताकि मरीजों को राहत मिल सके.

PAKISTAN PM IMRAN KHAN

पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्रालय ने वैधानिक नियामक आदेश (Statutory regulatory order) जारी कर अपने यहां की दवा इंडस्ट्री को इंडिया से मेडिसिन इंपोर्ट करने की इजाजत दे दी है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक 2019 में जुलाई तक पाकिस्तान ने भारतीय दवा कंपनियों से 1 अरब 36 करोड़ रुपये की दवाएं मंगाई थी. 5 अगस्त को भारत ने जब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने का फैसला किया तो पाकिस्तान ने भारत से व्यापारिक रिश्ते खत्म कर लिये.

( “द संडे हेडलाइंस” के यहां क्लिक कर सकते हैं आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं ) 

Show More
[whatsapp_share]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close